शनिवार, 23 जुलाई 2011

आज का प्रश्न-२४ ,२५ question no. 24,25

आज का प्रश्न-२३,२४ question no.24 ,25

**********************************

Qus.no.23 :-  स्कूलों मे विज्ञान पढाने से क्या अंधविश्वास तथा टोनेटोटके आदि निर्मूल धारणाओं से  
भारतीय समाज मुक्त हुआ है या नहीं  ?
   
*********************************

**********************************

Qus.no.24 :- एक स्तनधारी पक्षी और एक स्तनधारी मछली का नाम बताएं ?

   
*********************************
 उपर बाईं तरफ हैडर के नीचे मनपसंद गीत संगीत भी कभी कभी पोस्ट किया जाता है सुने शायद आपको भी पसंद आये. दर्शन बवेजा
उत्तर : स्कूलों मे विज्ञान पढाने से क्या अंधविश्वास तथा टोनेटोटके आदि निर्मूल धारणाओं से 
भारतीय समाज मुक्त हुआ है या नहीं यह एक स्वस्थ बहस का मुद्दा रहा है सभी कमेन्ट पढ़ कर स्पष्ट हो गया है कि विज्ञान पढाने से इन अंधविश्वासों के उन्मुलन मे काफी सहयोग मिला है और भी कईं गतिविधियां काम कर गयी अब लोग उतने नासमझ नहीं रहे है परन्तु देश की आबादी बढ़ने से प्रतिशत उतना ही रहा.आजकल मीडिया इन अंधविश्वास तथा टोनेटोटके को बढ़ाने मे काफी सहयोग कर रहा है ताबीज यंत्र धागे लाकेट माला नग अंगूठियां बेचीं जा रही हैं इस लिए अभी काफी जागरूकता की जरूरत है विज्ञान संचारकों के साथ साथ आम लोगों को भी आगे आना चाहिए इस  उत्तम कार्य के लिए .
  एक स्तनधारी पक्षी : चमगादड़
और एक स्तनधारी मछली  : वहेल है 
आशीष श्रीवास्तव, अन्तर सोहिल,   आशा जी ,राज भाटिय़ा जी  ePandit व फेस बुक मित्रों का जवाब देने के लिए शुक्रियां.
सभी टिप्पणी कर्ताओं का जी धन्यवाद
प्रस्तुति: सी.वी.रमण विज्ञान क्लब यमुनानगर हरियाणा  

8 टिप्‍पणियां:

अन्तर सोहिल ने कहा…

उत्तर नंO 23 - पूर्ण तो नहीं फिर भी बहुत फर्क है।

उत्तर नंO 24 - पेंगुईन (शायद)

प्रणाम

अन्तर सोहिल ने कहा…

उत्तर नंO 23 - पूर्ण तो नहीं फिर भी बहुत फर्क है।

उत्तर नंO 24 - पेंगुईन (शायद)

प्रणाम

आशा ने कहा…

उत्तर-२३
नहीं
उत्तर-२४
१-स्तनधारी पक्षी -चिमगादड़
२-
स्तनधारी मछली -व्हेल

राज भाटिय़ा ने कहा…

ह्वेल मछली, पक्षी, चमगादड ओर डक बिल प्लेटिपस

राज भाटिय़ा ने कहा…

विज्ञान पढाने से कुछ नही हुआ, आज भी लोग पत्थरो को दुध पिलाते हे, अनपढ नही पढे लिखे भी, आज भी लोग साई जैसो को भगवान मानते हे, वहा जा कर देखे अनपढ या गरीब नही पधे लिखे ओर अमीर भी पागल हे, आज भी लोग पीपल ओर जानवरो से वहम के कारण शादिया करते हे... सबूत एक नही हजारो हे जिस मे जान माने लोग भी जाने जाते हे, आज भी लोग मन्नत मानते हे कि यह काम हो जाये, अरे मेह्नत करो कर्म करो काम हो ही जायेगा, मुझे कोई फ़र्क नही लगा...

आशीष श्रीवास्तव ने कहा…

२३ - असर तो हुआ है, लेकिन शहरी क्षेत्र और ग्रामीण क्षेत्रो में अंतर है. आदिवासी क्षेत्रो में यह अंतर ज्यादा चौड़ा है.
२४. स्तनधारी पक्षी चमगादड़ , स्तनधारी मछली व्हेल

ePandit ने कहा…

सर जी स्तन देखने जायेंगे तो पक्षी के पतिदेव पिटायी कर देंगे। कैसे पता लगायें? :-)

Ankit.....................the real scholar ने कहा…

मैकाले के अधर्मी मानस पुत्रों से हमें यहे आशा थी , हम आप जैसे अज्ञानियों के साथ वार्ता करके अपनी उर्जा का अपव्यय और नहीं करना चाहते हैं आप देते रहिये भारतीयता और हिंदुत्व के विरुद्ध फतवे हम अपना कार करते रहेंगे

इस मंच को मेरा अंतिम नमस्कार