गुरुवार, 26 अप्रैल 2012

आज का प्रश्न-275question no-275

आज का प्रश्न-275 question no-275
प्रश्न-275: महान भारतीय वैज्ञानिक और गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन आयंगर जी का देहांत अल्पायु में किस बीमारी के कारण हुआ था ? 
उत्तर : तपेदिक (T.B.) से महज 32 साल की उम्र में दुनिया से विदा हो गए रामानुजन, 26 अप्रैल 1920 के प्रातः काल में वे अचेत हो गए और दोपहर होते होते उन्होंने प्राण त्याग दिए। इस समय महज 33 वर्ष की अल्प आयु में तपेदिक (टीबी रोग) से श्रीनिवास रामानुजन का स्वर्गवास हो गया। लेकिन इस कम समय में भी वह गणित में ऐसा अध्याय छोड़ गए, जिसे भुला पाना मुश्किल है। स्वास्थ्य ने साथ देने से इनकार कर दिया। प्रोफेसर हार्डी ने रामानुजन को कैंब्रिज आने के लिए आमंत्रित किया। प्रोफेसर हार्डी के प्रयासों से रामानुजन को कैंब्रिज जाने के लिए आर्थिक सहायता भी मिल गई। अपने एक विशेष शोध के कारण उन्हें कैंब्रिज विश्वविद्यालय द्वारा बी.ए. की उपाधि भी मिली, लेकिन वहाँ  की जलवायु और रहन-सहन में वे ढल नहीं पाए। उनका स्वास्थ्य और खराब हो गया। डॉक्टरों की सलाह पर इंग्लैण्ड से भारत लौटे। बीमार हालात में ही उच्चस्तरीय शोध-पत्र लिखा। मौत की घड़ी की टिकटिकी तेज होती गई। और वह घड़ी भी आ गई, जब 26 अप्रैल, 1920 की सुबह हमेशा के लिए सो गए और शामिल हो गए गौस, यूलर, जैकोबी जैसे सर्वकालीन महानतम गणितज्ञों की पंक्ति में। 
Dilip Kumar जी Asha Saxena जी का व फेसबुक मित्रों का बहुत बहुत धन्यवाद
सभी टिप्पणी कर्ताओं का जी धन्यवाद
प्रस्तुति: सी.वी.रमण विज्ञान क्लब यमुनानगर
   
 

4 टिप्‍पणियां:

Dilip Kumar ने कहा…

तपेदिक (टीबी रोग)

Dilip Kumar ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Dilip Kumar ने कहा…

26 अप्रैल 1920 के प्रातः काल में वे अचेत हो गए और दोपहर होते होते उन्होंने प्राण त्याग दिए। इस समय महज 33 वर्ष की अल्प आयु में तपेदिक (टीबी रोग) से श्रीनिवास रामानुजन का स्वर्गवास हो गया।

Asha Saxena ने कहा…

उनकी मृत्यु तेतीस वर्ष की आयु में तपेदिक से हुई थी |
आशा